अभी हाल में


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, 20 सितंबर 2010

कवि की निगाह से एक कस्बा

आज सुबह चारों ओर हो रही तेज़ बारिश के बीच यूं ही कुछ तलाशने के लिये कविता कोश पर भटक रहा था तो अग्रज कवि कुमार अंबुज की यह कविता नज़र आई…लगा आप सबको पढ़वाये बिना इसका आनन्द अधूरा रह जायेगा…बिना अनुमति के छाप रहा हूं…अंबुज जी से क्षमा-याचना तथा कविता कोश से आभार सहित


कहीं कोई कस्बा
अभी वसंत नहीं आया है
पेड़ों पर डोलते हैं पुराने पत्ते
लगातार उड़ती धूल वहाँ कुछ आराम फरमाती है

एक लम्बी दुबली सड़क जिसके किनारे
जब-तब जम्हाइयाँ लेती दुकानें
यह बाज़ार है
आगे दो चौराहे
एक पर मूर्ति के लिए विवाद हुआ था
दूसरी किसी योद्धा की है
नहीं डाली जा सकती जिस पर टेढ़ी निगाह

नाई की दुकान पर चौदह घंटे बजता है रेडियो
पोस्ट-मास्टर और बैंक-मैनेजर के घर का पता चलता-फिरता आदमी भी बता देगा
उधर पेशाब से गलती हुई लोकप्रिय दीवार
जिसके पार खंडहर, गुम्बद और मीनारें
ए.टी.एम. ने मंदिर के करीब बढ़ा दी है रौनक

आठ-दस ऑटो हैं रिेक्शेवालों को लतियाते
तांगेवालों की यूनियन फेल हुई
ट्रैक्टरों, लारियों से बचकर पैदल गुज़रते हैं आदमी खाँसते-खँखारते
अभी-अभी ख़तम हुए हैं चुनाव
दीवारों पर लिखत और फटे पोस्टर बाक़ी

गठित हुई हैं तीन नई धार्मिक सेनाएँ
जिनकी धमक है बेरोज़गार लड़कों में

चिप्स, नमकीन और शीतल पेय की बहार है
पुस्तकालय तोड़कर निकाली हैं तीन दुकानें
अस्पताल और थाने में पुरानी दृश्यावलियाँ हैं
रात के ग्यारह बजने को हैं
आखिरी बस आ चुकी
चाय मिल सकती है टाकीज़ के पास

पुराना तालाब, बस स्टैंड, कान्वेंट स्कूल, नया पंचायत भवन,
एक किलोमीटर दूर ढाबा
और हनुमान जी की टेकरी दर्शनीय स्थल हैं।

3 टिप्‍पणियां:

  1. सुबह-सुबह अच्छी कविता पढवाने का शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुमार भाई की यह बहुत अच्छी कविता है . इसे यहाँ पढ़वाने के लिये आभार ।

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है समर्थन का और आलोचनाओं का भी…