अभी हाल में


विजेट आपके ब्लॉग पर

रविवार, 21 अगस्त 2011

इतिहासकार को सच को उस समय के संदर्भों में पकडना चाहिए- राम शरण शर्मा


प्रख्यात इतिहासकार रामशरण शर्मा जी की मृत्यु की दुखद सूचना कल मिली. जनपक्ष की ओर से उन्हें लाल सलाम! यहाँ भाई कुमार मुकुल द्वारा लिया गया उनका एक साक्षात्कार  



आजकल ज्‍योतिषशास्‍त्र और बायोटेक्‍नालॉजी की पढाई की बात हो रही है...वैदिक गणित की चर्चा है...इस पर आप क्‍या कहेंगे...


  • हां नये लोग हैं,नये ढंग से विचार कर रहे हैं। ये बताते हैं कि सब वेदों में है। तो अब आगे पढने-पढाने की क्‍या जरूरत है...यूपी से वैदिक मैथेमेटिक्‍स पर एक किताब निकाली गई है। जो वहां कोर्स में चलाई जा रही है। मैंने गणितज्ञ गुणाकर मूले से वह किताब पढवाई थी। उन्‍होंने बताया कि वैदिक गणित की सामग्री कैम्ब्रि‍ज के एक गणितज्ञ के यहां से उतारी हुई है।


देखिए,हडप्‍पा में घोडा नही था सांड थे। उनलोगों ने सांड को घोडा कहा। जबकि घोडा लेट हडप्‍पा संस्‍कृति में मिलता है। उस समय हाथी या गैंडा था। यह शब्‍द गण-गंडक से निकलता है। पहले लिखा जाता था कि भगवन बुद्ध गैंडे की तरह चलते थे। दरअसल इतिहासकार को सच को उस समय के संदर्भों में पकडना चाहिए।

सच पर बात हो सकती है। पर आप सांड को घोडा कहें तो दिक्‍कत होगी। इसी तरह गाय का मामला है। पहली बार महात्‍मा बुद्ध ने कहा था कि गाय को नहीं मारना चाहिए। इसका बडा फायदा है। फिर आगे ब्राह्मणों ने भी कहा कि गाय को नहीं मारना चाहिए। पर ब्राह्मणों ने यह भी जोडा कि गाय के साथ ब्राह्मण को भी नहीं मारना चाहिए। आगे गाया की हत्‍या रूकी तो खेती बढी। इस विचार का लाभ मिला लोगों को। पर आज ट्रैक्‍टर आदि के आने के बाद बैल बेकार साबित हो रहे हैं। हाल में ही दिल्‍ली विश्‍वविद्यालय के वाइस चांसलर ने लिखा है कि आज गाय पालना हानिकारक है।

आप मार्क्‍सवादी इतिहासकार हैं। आज भारत में मार्क्‍सवाद और वादी पिछड क्‍यों गये हैं...

  • अब मार्क्‍सवादी भी एक्‍शन-इंटरेक्‍शन के प्रासेस को नहीं पकड पाते। उन्‍हें आर्थिक के साथ सामाजिक स्थितियों का भी ध्‍यान रखना चाहिए। आर्थिक कारण हैं चीजों के। इस आर्थिक कारण से जो चीजें पैदा होती हैं। इसका फिर क्‍या प्रभाव पडता है...। इसपर ध्‍यान ही नहीं है।


विचारधारा और इतिहास के अंत की घोषणाएं हो रही हैं आज। फुकियामा ने इतिहास के अंत की घोषणा की है। आप इस पर क्‍या सोचते हैं...।

  • विचारधारा का प्रभाव जबरदस्‍त पडता है। यह धर्मांधता को हटाती है। पर ब्राह्मणों ने तो हमारे लोगों का दिमाग बदल दिया है। फुकोयामा ने जो कहा है , ठीक ही कहा है - भाजपा वाले और फुकोयामा मिल जाएंगे और दोनों मिलकर सब का अंत कर देंगे। हमारे पीएम इरान जाते हैं तो वहां इस्‍लाम के योगदान पर बोल आते हैं और यहां कुछ और होता है। वह जो कहावत है न - जब जइसन तब तइसन...। इसी पर चलते हैं ये। उनका कोई हिडेन एजेंडा नहीं है। वे सुखदेव और भगतसिंह को देशद्रोही कहते रहे हैं।


आजकल आप इतिहास के अलावा क्‍या पढ रहे हैं...इधर कुछ नया लिखा है...

  • कुछ नहीं पढ रहा। बस सुबह-शाम टहलता हूं। पुरानी किताबें फिर से छपी हैं। इधर अर्ली मिडिआइवल इंडियन सोसायटी ए स्‍टडी इन फ्यूडेलाइजेशन छपी है नयी। इसकी कीमत छ सौ है। पेपरबैक छपेगी तो सस्‍ती होगी। अब इस उमर में कुछ करना पार नहीं लगता।इतिहास पर काम के अलावे दूसरा कोई काम नहीं। मेरा सिद्धांत है - एके साधे सब सधे,सब साधे सब जाए।


बिहार की आज की स्थिति के बारे में क्‍या सोचते हैं आप...

  • पटना के बुद्धिजीवी पढते-लिखते हैं। यहां अखबार,साप्‍ताहिक खूब बिकते हैं। बिहार सरकार को उच्‍च शिक्षा पर ध्‍यान देना चाहिए। 1977 में जब मेरी किताब पर बैन लगी थी तब मैंने जवाब में एक पुस्तिका,सोशल चेंज इन इंडिया, लिखी थी। कर्पूरी ठाकुर इस किताब को बराबर जेब में रखते थे।


बातचीत का यह अंश 2001 में पटना से निकलने वाले पाक्षिक न्‍यूज ब्रेक में छपा था।


8 टिप्‍पणियां:

  1. का रांम शरन शर्मा जी के निधन का समाचार दुखद रहा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. का रांम शरन शर्मा जी के निधन का समाचार दुखद रहा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. का रांम शरन शर्मा जी के निधन का समाचार दुखद रहा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्राचीन भारत के इतिहास लेखन में उनका योगदान अतुल्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. रामशरण जी के निधन से एक अपूरणीय क्षति हुई है .उन्हें मेरी विन्रम श्रन्धांजलि


    BHARTIY NARI

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही स्पष्ट बातें.
    ये बातें शेयर की जानी चाहियें . कर रहा हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  7. फुकोयामा ने जो कहा है , ठीक ही कहा है - भाजपा वाले और फुकोयामा मिल जाएंगे और दोनों मिलकर सब का अंत कर देंगे।

    ___________________________


    स्पष्ट और ज़रूरी बाते है

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है समर्थन का और आलोचनाओं का भी…