अभी हाल में


विजेट आपके ब्लॉग पर

मंगलवार, 8 फ़रवरी 2011

गहन है यह अंधकारा!




आज महाप्राण निराला का जन्मदिन है…सुबह कविता कोष से यूं ही उनकी कवितायें पढ़ता रहा…उनमें से तीन आपके लिये…


गहन है यह अंधकारा
गहन है यह अंधकारा;
स्वार्थ के अवगुंठनों से
हुआ है लुंठन हमारा।
खड़ी है दीवार जड़ की घेरकर,
बोलते है लोग ज्यों मुँह फेरकर
इस गगन में नहीं दिनकर;
नही शशधर, नही तारा।
कल्पना का ही अपार समुद्र यह,
गरजता है घेरकर तनु, रुद्र यह,
कुछ नही आता समझ में
कहाँ है श्यामल किनारा।
प्रिय मुझे वह चेतना दो देह की,
याद जिससे रहे वंचित गेह की,
खोजता फिरता न पाता हुआ,
मेरा हृदय हारा।

राजे ने अपनी रखवाली की
राजे ने अपनी रखवाली की;
किला बनाकर रहा;
बड़ी-बड़ी फ़ौजें रखीं ।
चापलूस कितने सामन्त आए ।
मतलब की लकड़ी पकड़े हुए ।
कितने ब्राह्मण आए
पोथियों में जनता को बाँधे हुए ।
कवियों ने उसकी बहादुरी के गीत गाए,
लेखकों ने लेख लिखे,
ऐतिहासिकों ने इतिहास के पन्ने भरे,
नाट्य-कलाकारों ने कितने नाटक रचे
रंगमंच पर खेले ।
जनता पर जादू चला राजे के समाज का ।
लोक-नारियों के लिए रानियाँ आदर्श हुईं ।
धर्म का बढ़ावा रहा धोखे से भरा हुआ ।
लोहा बजा धर्म पर, सभ्यता के नाम पर ।
ख़ून की नदी बही ।
आँख-कान मूंदकर जनता ने डुबकियाँ लीं ।
आँख खुली-- राजे ने अपनी रखवाली की ।

स्नेह-निर्झर बह गया है
स्नेह-निर्झर बह गया है !
रेत ज्यों तन रह गया है ।

आम की यह डाल जो सूखी दिखी,
कह रही है-"अब यहाँ पिक या शिखी
नहीं आते; पंक्ति मैं वह हूँ लिखी
नहीं जिसका अर्थ-
          जीवन दह गया है ।"

"दिये हैं मैने जगत को फूल-फल,
किया है अपनी प्रतिभा से चकित-चल;
पर अनश्वर था सकल पल्लवित पल--
ठाट जीवन का वही
          जो ढह गया है ।"

अब नहीं आती पुलिन पर प्रियतमा,
श्याम तृण पर बैठने को निरुपमा ।
बह रही है हृदय पर केवल अमा;
मै अलक्षित हूँ; यही
          कवि कह गया है ।


3 टिप्‍पणियां:

  1. निराला के जन्मदिन पर उन की कविताओं का यह पाठ पाठकों को अवश्य प्रेरित करेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. महाप्राण को उनके जन्मदिवस पर अभिवादन

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्नेह-निर्झर बह गया है पहले भी स्नातक के कोर्स में पढ़ चुका था मगर अन्य दो पहली बार पढ़ा. निराला जी की ये तीनों ही कविताये बहुत ही भावपूर्ण और सुंदर है. महाप्राण निराला जी जन्मदिन पर उन्हें नमन.

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है समर्थन का और आलोचनाओं का भी…