अभी हाल में


विजेट आपके ब्लॉग पर

मंगलवार, 1 मई 2012

मज़दूर यानि पुरुष मज़दूर?

आज मई दिवस है यानि कि दुनिया भर के कामगारों के संघर्ष और बलिदान को याद करने का दिन। लेकिन विमर्शों के उत्तर आधुनिक दौर में कुछ ऐसा प्रपंच रचा गया है कि लोगों की एक्सक्लूसिव पहचानों पर तो बहुत ज़ोर है पर सामूहिक पहचाने धुंधली हो गयी हैं। या तो आप दलित हैं, या ग़ैर दलित, नारी, मज़दूर या फिर कुछ और। लेकिन दरअसल एक जटिल समाज में हमारी सामूहिक पहचाने होती हैं और साझे संघर्ष। स्त्री अधिकार संगठन से जुड़ी रुपाली सिन्हा की यह टिप्पणी 8 मार्च और  1 मई के बीच के ताने-बाने को बयान करती है। कामगार दिवस पर क्रांतिकारी अभिनंदन सहित)
मई दिवस और महिलाएं

यह हम सबका दिन है!
दुनियाभर के मुक्ति संघर्षों अत्याचार और उत्पीडन के खिलाफ होने वाले संघर्षों में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। उन्होने मर्दो के कंधे से कंधा मिलाकर संघर्षों में अपनी भागीदारी निभाई है। मई दिवस का इतिहास भी मर्दों के साथ-2 औरतों के संघर्षों से लिखा गया है। मजदूर दिवस दुनिया भर के मजदूरों की आकांक्षाओं, अधिकारों और जीत का दिन है। इस दृष्टि से अमेरिका के मजदूर आंदोलन ने कामगार वर्ग को दो अंतर्राष्ट्रीय दिन दिए है आठ मार्च और एक मई।

19 वीं सदी के अंत तक यूरोप और अमेरिका में औद्योगिक कामगारों के रुप मे औरतों ने अपनी जगह बना ली थी। हालांकि उनकी स्थिति और उनके काम की परिस्थितियां मर्दो की तुलना में बहुत बदतर थीं। मार्च 1857 में कपडा उद्योग में काम करने वाली औरतों ने बेहतर काम की परिस्थितियों, काम के 10 घंटे और बराबरी के अधिकार के लिए प्रदर्शन किया जिसका बुरी तरह दमन किया गया। मार्च 1908 में कामगार औरतों का एक और बडा प्रदर्शन हुआ। यह प्रदर्शन बालश्रम पर रोक और औरतों के मताधिकार की मांग को ले कर था। फिर दमन हुआ। 1909 में गारमेंट मजदूरिनों ने अमेरिका में आम हडताल कर दी। 20 से 30 हजार कामगारिनों ने बेहतर वेतन और बेहतर काम की परि0 के लिए भयंकर ठंड के 13 हफ्ते संघर्ष किये। 1903 में महिला ट्रेड यूनियन की स्थापना हुई जिसने गिरफतार हडतालियों को जेल से छुडाने की व्यवस्था की। इस संघर्ष को विशेष दिन का दर्जा दिलाने में क्लारा जेटकिन के प्रयासों से सभी परिचित हैं। 

अंतर्राष्टीय महिला दिवस ने कामगारों के संघर्ष को ताकत दी। रूस की फरवरी क्रांति में इसने महत्वपूर्ण उत्प्रेरक का कार्य किया।

19वीं सदी हलचलों का युग थी आंदोलनों का ज्वार था। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का विचार भी यहीं पनपा था। जब पुरूष कामगार 10 से 8 घंटे काम की मांग कर रहे थे महिला कामगार 1857 में 16 से 19 की मांग कर रही थी। इससे पता चलता है कि औरतों के साथ हर क्षेत्र में भेदभाव होता रहा है।  औरतें एक तरफ अपनी बराबरी और अधिकारों की लडाई लड रही थी दूसरी ओर पुरुष कामगारों के साथ कंधे से कंधा मिला कर संघर्ष में बराबरी से हिस्सेदारी भी कर रही थी। 

 महिलाओं के इस ऐतिहासिक संघर्ष को महिलाओं के संघर्ष के रुप में सीमित करके आंका जाता है जबकि वह भी उस व्यापक मजदूर आंदोलन का हिस्सा था जिसने पूरी दुनिया के मजदूरों को एक नई ताकत और दृष्टि दी थी। ठीक उसी प्रकार जैसे मई दिवस के संघर्ष को अनकहे ही पुरुष कामगारों का संघर्ष मान लिया जाता है। 8 मार्च का आंदोलन राजनीतिर्क आर्थिक और सामाजिक अधिकारों का संघर्ष था जो समूची मानवजाति से स्वयं को जोडता था। यह केवल ‘औरतों का मुद्दा’ नहीं था।

 उदाहरण के लिए जब 1866 में अमेरिका में ‘ नेशनल लेबर यूनियन की स्थापना हुइ थी तो बहुत सी महिला श्रमिक इसका हिस्सा थीं। अमेरिकी कांग्रेस ने 1868 में आठ घंटे के कार्यदिवस का जो कानून पास किया उसकी उत्प्रेरक नेता थीं बोस्टन की मेकेनिस्ट इरा स्टीवर्ड। 

 पिछले कुछ सालों से हम देख रहें है कि महिला दिवस को पत्नी दिवस के रुप में मनाना, कार्ड पर सुंदर कोमल कविताएं लिख कर देना, उपहार देना आदि का प्रचलन बढता जा रहा है। महिलाओ के जुझारु संघर्षों को बेहतर समाज के लिए होने वाले संघर्षो के हिस्से के रुप में नहीं देखा जाता। इस ऐतिहासिक संघर्ष ने यह साबित किया कि महिलाओं की भी राजनीतिक भूमिका है और इसे निभा सकने में वे सक्षम भी हैं। हालाॅकि महिला कामगारों के अधिकारों की हमेशा ही उपेक्षा हुई है। आज भी उनके साथ पुरुष कामगारों की तुलना में अधिक शोषण और उत्पीडन हिंसा और गैरबराबरी का शिकार होना पडता है। संगठित असंगठित दोनों क्षेत्रों में लगभग यही स्थिति है। इस दृष्टि से महिला मजदूरों को दोहरा संघर्ष करना होगा। एक तरफ पितृसत्तात्मक शोषण से तो दूसरी ओर एक कामगार के रुप में आज महिला कामगारों को संगठित करने की जरुरत को समझना होगा जो पितृसत्तात्मक मूल्यों को चुनौती देने के साथ ही व्यापक मजदूर आंदोलन का भी हिस्सा बनें।




यहाँ सुनिए पाश का क्रांतिकारी गीत...हम लड़ेंगे साथी..


5 टिप्‍पणियां:

  1. सोवियत रूस में दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान पुरुषों को युद्ध के लिए भेजा गया था और महिलाओं को अन्य दफ्तरी कामों या दूसरे कामों के लिए बुला लिया गया था लेकिन विश्वयुद्ध खत्म होते ही उन्हें वापस जाना पड़ा और पुरुषों को उनके काम फिर से दे दिये गये।
    - -

    सबके बावजूद महिला मजदूरों को उनका हक भी मिलना ही चाहिए... लेखिका से सहमति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बुधवारीय चर्चा-मंच पर |

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद ज़रूरी और सामयिक आलेख है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शानदार और बहुत उपयोगी आलेख !कामरेड रूपाली को बधाई !

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है समर्थन का और आलोचनाओं का भी…